एमबीए या सीए – करियर च्वाइस

0

आज ज्यादातर युवाओं की पसंद मैनेजमेंट के क्षेत्र में करियर बनाना है। लेकिन उनके पास सीए जैसा पॉवरफुल करियर ऑप्शन भी है। अब ऐसे में थोड़ा कन्फ्यूज होना लाजमी है, लेकिन फैसला तो करना ही होगा। हाँ यह बात अलग है कि दोनों ही क्षेत्रों में करियर की अच्छी संभावनाएं मौजूद हैं एवं आप इन क्षेत्रों में इनकम भी अच्छी कर सकते हैं। तो अब सोचिए नहीं, कर लीजिए किसी एक स्ट्रीम में करियर का निर्णय। हम यहां बता रहे हैं इन दोनों विषयों के बारे में जानकारी।

जो युवा इन क्षेत्रों में करियर बनाने के बारे में सोच रहे हैं उनके लिए जरूरी है कि दोनों क्षेत्रों की पर्याप्त जानकारी हो, क्?योंकि सीए के अलग फायदे हैं और एमबीए के अलग।

सीए के पाठ्यक्रम में प्रवेश पाने की अपनी मुश्किलें हैं, तो एमबीए की अलग। यह अंतर्द्वंद्व आपको न सताए, इसके लिए जरूरी है कि आपको दोनों ही फील्ड्स के माइनस और प्लस प्वाइंट्स पता हों। सबसे पहले समझते हैं सीए को। करियर बाजार में आजकल सीए और एमबीए डिग्री का बोलबाला है। ये दोनों फील्ड्स इस समय छात्रों में उहापोह का कारण बन गए हैं।

सीए :

सीए नि:संदेह एक अच्छा और रिवॉर्डिंग करियर है। पर यह भी सच है कि जैसे मेडिकल के क्षेत्र में आपको डिग्री मिल जाने के बाद भी स्थापित होने में टाइम लगता है, वैसे ही सीए के काम में भी पहचान बनने में थोड़ा समय लगता है। हालांकि अब यह समस्या भी खत्म होने को है, क्?योंकि आईसीएआई जैसे सीए के क्षेत्र के तीर्थ बने संस्थान कॉरपोरेट सेक्?टर में भी प्लेसमेंट दे रहे हैं। फिर भी इस क्षेत्र की कार्यप्रकृति? के अनुसार आप स्वयं सीए के तौर पर कार्य शुरू कर सकते हैं।

सीए का कोर्स कर चुका व्यक्?ति कभी भी खाली नहीं बैठ सकता। नॉलेज प्रोसेस आउटसोर्सिंग (बीपीओ), इक्?विटी एनालिसिस और एकाउंटिंग फर्म्?स में सीए प्रोफेशनल्स की खूब डिमांड है और सैलरी भी अच्छी होती है। सीए के तौर पर काम करते हुए आपको नंबर्स पर खूब काम करना होगा, जो हो सकता है कि कुछ समय बाद बोरिंग लगने लगे। जो अकाउंटिंग के क्षेत्र में हैं, वे शायद इस बात से सहमत न हों, पर सच यही है कि एक शानदार और लाभदायक फील्ड होने के बावजूद प्रोफेशनल के तौर पर सीए का जुनून कम होता जा रहा है और एमबीए लोगों पर छाता जा रहा है।

सीए या एमबीए ही क्?यों?

आमतौर से देखा गया है कि युवा सीए या एमबीए इसलिए करने लगते हैं, क्?योंकि आजकल मल्टीनेशनल कंपनियों में कई ऐसे बड़े नाम हैं जो लाखों रुपए प्रतिमाह की कमाई कर रहे हैं और युवाओं का आकर्षण स्वाभाविक है कि ऐसे लोगों के प्रति रहेगा ही, इसलिए वे इन विषयों का चुनाव कर रहे हैं। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि सीए करने के अपने फायदे हैं और यह फील्ड हर कोई नहीं चुन सकता।

जिन युवाओं को संख्याओं से खेलना अच्छा लगता है, क्रेडि?ट-डेबिट की उलझन समझने का चैलेंज अच्छा लगता है, उनके लिए कॉमर्स साइड से पढ़ते हुए सीए का फील्ड अच्छी सैलरी और भविष्य देता है, लेकिन अब कॉमर्स स्टूडेंट के लिए एमबीए की नई दिशा बन जाने से सीए के कोर्स की पॉपुलैरिटी को चैलेंज मिलने लगा है। कई ऐसे कॉमर्स स्टूडेंट हैं, जो सीए के बजाए एमबीए में अपना स्वर्णिम भविष्य देखते हैं। क्रमश: .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here