किस तरह के शॉपर हैं आप… जानिये Types of Shoppers: Which One Are You?

0


Types of Shoppers: Which One Are You? शॉपिंग के प्रकार

फेस्टिवल्स यानि शॉपिंग का सीजन
गुलाबी ठंड का मौसम दस्तक दे चुका है,चिलचिलाती गर्मी के बाद ठंडी हवाओं का स्पर्श घुमड़ते बादल और बारिश से भीगे झूमते पेड़-पौधे, वाकई यह दृश्य और फिर गुलाबी ठंड का अहसास ऐसा है जो आने वाले त्यौहारी खुशियों को दोगुना करता है। विशेष कर महिलाओं के लिए और भी खास हो जाता है जब महिलाओं की खास पसंद-साडिय़ों की खरीदारी पर विशेष छूट के ऑफर्स का पता चलता है, ऐसे में जब रंग-बिरंगी मनमोहक साडिय़ों की खरीदारी की चाह और भी बलवती हो जाती है।
फेस्टिव डिस्काउंट ऑफर्स इसे और भी विशेष बनाते हैं।अपनी पसंद के कपड़े खरीदने निकलते हैं और मालूम होता है कि आपके पसंदीदा ब्राण्ड्स पर ५० प्रतिशत तक छूट भी मिल रही है, तो फेस्टिविटी का अहसास और भी खास हो जाता है। स्वाभाविक ही है कि अपने पसंद के रेडिमेड्स खरीदने हों और उस पर भी सेल का फायदा मिले तो ऐसा मौका कौन चूक ना चाहेगा?
जहां चारों और त्यौहारी खुशियां फैल रही हों, वहीं अपने पसंदीदा वस्त्रों की सेल का याल भी रोमांचित कर देता है। ऐसे में फैशन प्रेमी खुद को रोक नहीं पाते और अपने पसंदीदा स्टोर का रूख करते हैं ताकि वहंा अपने पसंद के वस्त्र खरीद सकें और अपने फे वरेट ब्राण्ड्स अपने वार्डरोब में सजा सकें और फेस्टिव सीजन की शॉपिंग को यादगार बना सकते हैं।

शॉपिंग ट्रेण्ड्स

क्रेडिट कार्ड 
वैसे अधिकतर वर्किंग वुमन ही क्रेडिट कार्ड का उपयोग करती हैं। क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल: शॉपिंग में क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल महिलाएं तभी करती हैं, जब उनका बजट सीमा से बाहर हो जाता है।

कैश शॉपिंग 
अधिकतर महिलाएं कैश शॉपिंग में ज्यादा भरोसा रखती हैं। इसमें एक बार ५-१५ हजार तक की शॉपिंग कर लेती हैं।

ऑनलाइन शॉपिंग 
बड़े ब्राण्ड्स भी ऑनलाइन शॉपिंग करने वालों के लिए कैश ऑन डिलीवरी का ऑप्शन दे रहे हैं,ऐसा इसलिए कि ऑनलाइन फ्र ा्ॅड्स के बढ़ते मामलों से कैश शॉपिंग का प्रचलन सुरक्षित माना जाता है और यह पुराना व आजमाया हुआ तरीका है, इसके तहत ऑनलाइन ऑर्डर करने के बाद आपको घर पर माल डिलीवरी किया जाता है, और उस वत आपको पेमेंट करना होता है।

पावर शॉपर
आप भी नीड बेस्ड या पावर jeweleryही माने जाएंगे यदि आपको दो पेन चाहिए तो आपने दो ही पेन खरीदे। असर स्त्रियां शॉपिंग की इस कैटेगरी में नहीं आतीं। जहां तक सेलिब्रिटीज की बात है तो वहां भी स्त्रियों पर शॉपिंग का फीवर साफ देखा जा सकता है, जबकि पुरुष इससे कुछ दूरी बनाकर रखना पसंद करते हैं। उन्हें सिर्फ जरूरत ही समझ में आती है।

विंडो शॉपर 
आजकल विंडो शॉपिंग करने वालों की कमी नहीं है। कुछ jeweleryऐसे मौके अपने हाथ से इसलिए भी जाने नहीं देना चाहते, योंकि उनका मानना है कि फेमिली के साथ समय बिताने का यह एक अच्छा मौका होता है। सिर्फ फेमिली ही नहीं, बल्कि फ्रेण्ड्स के ग्रुप्स भी विंडो शॉपिंग में माहिर होते हैं।

लॉयल शॉपर-
आप अपनी पसंद की कुछ खास चीजों के लिए हमेशा एक ही स्टोर में जाते हैं। कहीं और से भी आपको वही चीज मिल जाए तो भी आप उसमें 10 कमियां गिना देते हैं। अगर आप भी कुछ ऐसा ही व्यवहार करते हैं तो आप उस स्टोर के लॉयल jeweleryहैं। लॉयल शॉपर होना बुरा नहीं है, लेकिन इसमें एक बड़ी समस्या यह है कि आपको किसी और स्टोर पर ारीदारी करनी हो तो वही चीज उतने या उससे कम दाम में पसंद नहीं आती।

फिल्म स्टार्स का अपना एक खास डिजायनर की तरफ रूझान होता है, जब भी उन्हें किसी खास मौके के लिए ड्रेस डिजाइन करवानी होती है तो वे उसी की तरफ ही मुडकर देखते हैं।

डिस्काउंट शॉपर

कुछ लोग खुद को बेहद स्मार्ट शॉपर मानते हैं। यों? योंकि उन्हें हर जगह डिस्काउंट के बाद चीजें खरीदना पसंद है। उन्हें लगता है कि डिस्काउंट के बाद उस चीज का उन्हें कम दाम चुकाना पड़ा। ऐसे शॉपर्स कहीं भी डिस्काउंट मांग सकते हैं, इस तरह के शॉपर्स आम तौर पर बड़े स्टोर्स को छोड़कर लोकल मार्केट में शॉपिंग करना पसंद करते हैं। लेकिन डिस्काउंट शॉपिंग हर किसी के बस की बात नहीं,योंकि इसके लिए एक खास किस्म के टैट्स और गिफ्ट ऑफ गैब अर्थात् अत्यधिक बातचीत में विशेषज्ञता जरूरी है।

लास्ट मिनट शॉपर 
जब कोई खास अवसर ही आ जाए या आपको कहीं बाहर घूमने जाना हो, तो बस आप उसी आखिरी दिन शॉपिंग लिस्ट व पर्स हाथ में लेकर। अकसर ऐसे खरीदार शॉपिंग को आफत मानते हैं और जब तक टाला जा सके खरीदारी को टालते हुए दिखाई देते हैं। इस शॉपिंग को पैनिक शॉपिंग भी माना जाता है। इस तरह की शॉपिंग अकसर घबराई हुई या पैनिक की स्थिति में ही की जाती है, जिसमें खरीदारी के वक्त कुछ सामान छूट जाना आम बात है।

स्मार्ट शॉपर
कुछ ऐसे भी शॉपर्स होते हैं जो खरीदारी के मास्टर होते हैं। स्मार्ट शॉपर  न सिर्फ पैसे, बल्कि समय की भी बचत करता है। कितना चाहिए, कहां से चाहिए और कब चाहिए, इन सवालों के जवाब हमेशा उनके पास तैयार रहते हैं। कुछ तो ऐसे भी होते हैं जो समय से पहले ही शॉपिंग से पहले की अपनी तैयारियां पूरी कर लेते हैं। किसी स्टोर में सेल लगने का इंतजार करना और सेल लगने पर सबसे पहले उन्हें खरीद लेना।

ब्रैंड कॉन्शस shopper
कपडों से लेकर इलेट्रॉनिक इक्विपमेंट तक सभी ब्रैंडेड ही चाहिए। यों, योंकि उनके अलावा किसी की फिटिंग पसंद नहीं आती या फिर लोकल प्रोडट्स जल्दी खराब हो जाते हैं। जी हां, आज बिका हुआ सामान वापस नहीं होगा के जमाने में सिर्फ ब्रैंडेड सामान का ही बोलबाला दिखाई देता है।

इंपल्सिव शॉपर

आप स्टोर में जाते हैं कुछ खरीदने के लिए। लेकिन यह कुछ या है, आप इससे वाकिफ नहीं हैं। जो भी पसंद आया बस उसे खरीद लिया। इंपल्सिव शॉपर्स जरूरत के लिए शॉपिंग नहीं करते, बल्कि जो खरीदते हैं उसे जरूरत का नाम दे देते हैं।

——

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here