कौन सा सब्जेक्ट है करियर के लिए सही

0

इंजीनियरिंग
नियमित विषयों से लेकर पर्यावरण, वेस्ट एंड सेफ्टी स्टडी, ऊर्जा, क्लिनिकल, बायोटेक्नोलॉजी, बायोमेडिकल पेट्रोलियम, नेनो टेक्नोलॉजी फूड एंड एग्रीकलचर टेक्नोलॉजी
बायोलॉजी एंड अप्लाइड बायोलॉजी इनोवेशन एंड इंटरप्राइज, पॉलिमर एंड अदर मटेरियल टेक्नोलॉजी जैसे विषयों पर भी इंजीनियरिंग की जा सकती है।

मेडिकल
फार्मेसी एंड मेडिसिन, फिजियोथैरेपी, ऑक्युपेशनल हैल्थ एंड अर्कोनॉमिस्ट, डेंटल स्टडी, पॉडेट्री, प्रिवेंटिव एंड सोशल मेडिसिन, एनोटोमी एंड फिजियोलॉजी, रेडियोलॉजी एंड अदर टेस्टिंग, इम्युनोलॉजी, नर्सिंग, पेरामेडिकल, पैथालॉजी एंड डिसिस रिसर्च जैसे विषयों की पढ़ाई की जा सकती है।

आर्ट्स
आर्ट्ïस के पांरपरिक विषय सिविल सर्विसेस में तो मददगार होते ही हैं। अन्य विषयों में कम्युनिकेशन, आर्ट, डांस, लैंग्वेज, क्लासिकल म्यूजिक, ड्रामाटिक्स, ह्यïुमेंटिस, क्रिएटिव राइटिंग, म्यूजिक, आर्केलॉजी, ज्योग्राफी एंड ज्योलॉजी, इतिहास, क्लासिकल डांस जैसे विषयों में महारत हासिल कर सकते हैं।

प्रबंधन
प्रबंधन का क्षेत्र अब केवल प्रशासन या व्यवसाय तक ही सीमित नहीं रह गया है। प्रबंधन में रुचि रखने वालों का लक्ष्य भारतीय प्रबंधन संस्थान है। इन संस्थानों में प्रवेश के लिए कॉमन एडमिशन टेस्ट या कैट की परीक्षा उत्तीर्ण करना होता है। इसके लिए विशेष तैयारी की जरूरत है क्योंकि हर बार पैटर्न बदलता है।

डिजाइनिंग
10वीं में स्टूडेंट्स कोई भी विषय लेकर डिजाइनिंग के क्षेत्र में जा सकते हैं। फैशन, टेक्सटाइल, इंटीरियर, फैशन इलस्टे्रटर, फैशन मर्केंटाइजर, क्रिएटिव फैब्रिक डिजाइनर, फर्निशिंग डिजाइनर, फैशन कंसल्टेंट, इसेम्पल को-ऑर्डिनेटर, विंडो डे्रसर, कलर कंसल्टेंट, इंटीरियर एक्सेसरीज डिजाइनर बन सकते हैं।

एस्ट्रोनॉमर
एस्ट्रोनॉमर बनने के लिए 12वीं में फिजिक्स और मैथ्स होना जरूरी है। 12वींं के बाद बीएससी और फिर एस्ट्रोनॉमी में पोस्ट गे्रजुएशन कर सकते हैं। एस्ट्रोनॉमी के प्रमुख संस्थानों में एडमिशन आईआईटी-जेईई से मिलता है। एस्ट्रोनॉमी संस्थानों के लिए संयुक्त प्रवेश स्क्रीनिंग परीक्षा (जेईएसटी) होती हैै।

यूपीएससी
हर साल यूपीएससी के लगभग 400 पदों के लिए 2 लाख से ज्यादा कैंडिडेट शामिल होते हैं। स्टूडेंट्स को आठवीं क्लास से ही एनसीईआरटी की किताबों के द्वारा की गई स्टडी का फायदा मिलता है। इसके लिए करंट अफेयर पर विशेष ध्यान देना होगा क्योंकि समसामयिक मुद्दों पर आधारित प्रश्न अधिक पूछे जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here