ज्वेलरी ट्रेंड्स एंड टिप्स

0

नारी की सुंदरता आभूषणों के बिना अधूरी है और नारी के सौंदर्य को चार चांद लगाने में आभूषणों का महत्तवपूर्ण योगदान रहता है। आभूषणों का उपयोग अपने सामाजिक रूतबे को दर्शाने और व्यक्तित्व को अधिक प्रभावी बनाने के लिए किया जाता है। प्राचीन समय से आज तक आभूषणों के प्रति नारी का मोह वैसा ही है।आभूषणों से नारी सम्पूर्ण दिखाई देती है, और ये उसके वस्त्रों को व व्यक्तित्व को काम्पलीमेंट करते हैं। आजकल परंपरागत ज्वैलरी के अतिरिक्त मॉडर्न इमिटेशन ज्वैलरी का भी प्रचलन काफी बढ़ चुका है। इन आभूषणों में पेंडेंट्स,नेकलेस,वाचे•ा,ब्रेस्लेट्स,इयररिंग्स,फिंगर रिंग्स आदि शामिल हैं। विशेषकर युवतियों में इनका प्रचलन अधिक है।ये स्लीक,हल्की और इनोवेटिव डिजाइन्स में उपलब्ध है। युवतियों में आकर्षक डिजाइन्स और क्रिएटिव ज्वैलरी के प्रति अधिक रूझान है। कम कीमत होने के कारण और रीयल ज्वैलरी के समान ही आकर्षक होने के कारण यह अत्यधिक लोकप्रिय है। परंपरागत ज्वैलरी का भी ट्रेण्ड कम नहीं हुआ,यह अपना आकर्षण पहले की भांति बरकरार रखे हुए है।चांदी के बर्तन,सिक्के आदि प्रमुख गिफ्ट बन गए हैं और न केवल अपने सगे-संबंधियों को उपहार देने के बल्कि कार्पाेरेट गिफ्ट में भी इनका प्रचलन बढ़ा है।

ड्रेसेज-जैसा कि कहा जाता है,ड्रेसेज एक्सप्रेस द एट्ीट्यूड यानि वस्त्र आपके व्यक्तित्व के परिचायक हैं,साथ ही इनके डिजाइन भी और रंग भी। आज महिलाओं के पास त्यौहारों पर फैशनेबल वस्त्रों के अनेक विकल्प मौजूद हैं। ब्राण्डेड अपेरल्स से लेकर बुटिक्स और डिजाइनर शॉप्स तक वे अपनी पसंद के वस्त्र चुुन सकती हैं या फिर ऑर्डर पर तैयार करवा सकती हैं। परफैक्ट कट्स और शेप्स के साथ ये विभिन्न रंगों,पैटन्र्स और डिजाइन्स में उपलब्ध हैं। वस्त्र भी उपहार में लेने-देने के उपयोग लिए जाते हैं। त्यौहारों को ध्यान में रखते हुए वस्त्रों की खास वैरायटी भी विभिन्न कम्पनियों द्वारा लॉन्च की जाती है।
विवाह-शादी में ड्रेसेज में रॉयल्टी झलकनी चाहिए। चाहे इस शाही चमक दमक के लिए कपड़े और ज्वैलरी किराये पर ही क्यों ने लेनी पड़े। कुछ ऐसा ही अब जयपुर में होने वाली शादियों में भी नजर आने लगा है। इसके लिए लोग हजारों रुपए तक चुकाने में कोई गुरेज नहीं कर रहे हैं। मार्केट भी इसके लिए पूरी तरह से तैयार है। ऑर्डर आते ही रॉयल कपड़े और लैटेस्ट ज्वैलरी उपलब्ध हो जाती है।

इसके लिए लोग पहली बार किराये के रूप में रॉयल लुक वाले कपड़ों की कीमत का 60 परसेंट तक देने को तैयार हो जाते हैं। दूल्हे के लिए बाजार में 1100 रुपए से 25,000 रुपए तक किराये वाली ड्रैसेज हैं। इसमें हर तरह के कपड़े की क्वालिटी ट्रेडिशनल, इंडो—वेस्टर्न समेत सभी लेटेस्ट और पुराने डिजाइन में भी हैं। अगर कोई कस्टमर ज्यादा खर्च करना चाहे तो ऑर्डर देकर महंगे कपड़े बनवा सकता है। एक ड्रेस स्टोर के ओनर के अनुसार पहले दूल्हे की ड्रैस का क्रेज रहता था। अब दुल्हन और लड़कियों की ड्रैस के लिए भी काफी डिमांड आ रही है। लोग ट्रेडिशनल डिजाइन वाली ज्वैलरी, कुंदनमीना स्टाइल, स्टोन वर्क और जोधा अकबर जैसे हैवी ज्वैलरी के डिजाइन शादी में पहनना पसंद कर रह हैं।
दुल्हन के लिए बेस और लहंगा, लांचे की भी काफी मांग है। एक बार शादी में पहनने के बाद इस तरह के कपड़े आमतौर पर काम नहीं आते, इसलिए लोग शादी या किसी खास मौके के लिए नए कपड़े बनवाने के बजाय किराये पर लेते हैं। दूल्हे के कपड़ों की बात करें तो डिजाइन, कलंगी, कंठा और बैज के मुताबिक कीमत कम ज्यादा होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here