इसलिए ख़ास हैं स्पेशियेल्टी मॉल्स : Specialty Malls

0

स्पेशियेल्टी मॉल्स
अनेकों अलग-अलग जरूरतों के हिसाब से व ग्राहकों की पसंद के अनुसार मॉल्स बनाए जाते हैं इनमें कुछ स्पेशियेल्टी मॉल्स भी शामिल हैं जैसे-
फैशन स्पेशिएल्टी सेंटर्स:
उच्च मध्यम वर्ग को ध्यान में रखकर बनाए गए फैशन मॉल्स केवल परिधानों व एसेसरी  के लिए बनाए जाते हैं। इनका क्षेत्रफल बहुधा ३०,००० स्क्वायर फीट से २,५०,००० स्क्वायर फीट तक होता है।
कम्यूनिटी सेंटर:
१०,००० से ३,५०००० स्क्वायर फीट में बनाया गया कम्यूनिटी सेंटर, मुख्यत: दो प्रकार का होता है, इनमें discount स्टोर, discount डिपार्टमेंट स्टोर और स्पेशिएल्टी discount एपैरल स्टोर शामिल हैं।
लाइफ स्टाइल सेंटर:
कुछेक एक्सक्लूसिव शॉप्स, शॉरूम्स के साथ-साथ एक मूवी थिएटर की सुविधा अर्थात मनोरंजन के साथ शॉपिंग का भरपूर मजा यानि लाइफस्टाइल सेंटर।

थीम/ फैस्टिवल सेंटर: ३०,०० से २,५०,००० स्क्वायर फीट के व्यूरिस्ट ओरिएंटेड, रिटेल एवं सर्विस सेंटर को थीम/ फेस्टिवल सेंटर के नाम से भी जाना जाता है। यहां तरह-तरह की गतिविधियां जिनमें मुख्त: लोगों को प्रतिभागी बनाकर इवेंट आदि कराए जाते हैं, जिससे इनका प्रचलन मेट्रो सिटीज में ज्यादा बढ़ा है।

इसके अलावा बिजनेस क्लस्टर, बिजनेस पार्क, शॉपिंग सेंटर, रिटेल पार्क आदि अनेक ऐसे कॉमर्शियल कॉम्प्लेक्सेज खुल चुके हैं जहां व्यक्ति अपनी जरूरतों के हिसाब से अपनी खरीदारी तय कर सकता है। इनके अलावा आजकल टेक्नोलॉजी पाक्र, भिन्न-भिन्न प्रॉडकट्स के अलग-अलग कॉम्प्लेक्स बनाए जा रहे हैं और इनका प्रचलन भी बढ़ रहा है। जैसे ज्वैलरी आदि की खरीदारी के लिए गोल्ड सुक आदि इसके उदाहरण हैं। दिनों-दिन रिटेल की बढ़ती जरूरतों के हिसाब से आज कामर्शियल कॉम्प्लेक्सेज का भी तीव्र गति से विकास हुआ है और ये लोगों में भी खूब लोकप्रिय हो रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here