अंतरिक्ष यात्रा -10 रोचक तथ्य

0

01 अंतरिक्ष की सबसे पहले सैर रूस के अंतरिक्ष यात्री यूरी गागरिन ने 1961 में की थी। कुछ निजी कंपनियां अब अंतरिक्ष में जाने के टूर पैकेज भी देने लगी हैं यानी आपके पास अगर पैसा है तो अब अंतरिक्ष दूर नहीं है। पैकेज का हिसाब इस बात से ही लगा सकते हैं कि एक अंतरिक्ष सूट बनाने में करीब 80 करोड़ रुपए खर्च होते हैं।
02 अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण नहीं है यानी आप अगर रोते भी हैं तो आपके आंसू नीचे जमीन पर नहीं गिरेंगे। खाना भी ज्यादातर अंतरिक्ष यात्रियों को लिक्विड फॉर्म में ही लेना पड़ता है। खाने पर नमक मिर्च डालने से वो खाने में ना जाकर हवा में तैरने लगता है। अगर खाना सॉलिड है तो वो भी थाली में ना बैठकर हवा में तैरता है।
03 अंतरिक्ष में खाना खाने के दौरान चाकू या छुरी का उपयोग नहीं हो सकता, इसलिए सभी चीजों को छोटे टिकियानुमा आकार में तैयार करते हैं। रोटियां आमतौर पर चाकलेट की शक्ल की बनाई जाती हैं। एक रोटी का वजन साढ़े चार-पांच ग्राम के आसपास होता है और उसे एक कौर में ही खाया जा सकता है।
04 स्पेस में जाने से पहले आपको काफी ट्रेनिंग दी जाती है, क्योंकि वहां रोजमर्रा के कामों के लिए भी काफी मशक्कत करनी पड़ती है। सोने के लिए काफी मेहनत करनी होती है। आंखों पर पट्टी बांधकर एक बक्सेनुमा बंकर में सोना होता है, जिससे सोने के बाद तैरने और इधर-उधर टकराने से बचा जा सके।
05 अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण बिल्कुल कम होने से यात्रा कर रहे शख्स को कमजोरी महसूस होती है। ये कमजोरी 3-4 दिन तक बनी रहती है। अंतरिक्ष में गैस पास भी नहीं कर सकते हैं, क्योंकि गैस पेट से अलग नहीं हो पाती है।
06 अंतरिक्ष में हवा नहीं है इसलिए आपकी आवाज एक जगह से दूसरी जगह नहीं जा सकती है। आप तेजी से चिल्लाते भी हैं तो आपके सामने खड़ा साथी आपकी आवाज नहीं सुन सकेगा। आप स्पेस सूट पहने हुए हैं तो आप सीटी भी नहीं मार सकते, क्योंकि वहां दबाव बहुत कम होता है।
07 इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन का आकार फुटबाॅल के मैदान जितना होता है। जहां से अंतरिक्ष से संबंधित रिसर्च किए जाते हैं। अंतरिक्ष में अगर धातु के दो टुकड़ों को एक दूसरे से टच करा दें तो वो हमेशा के लिए एक दूसरे से जुड़ जाते हैं। वहां बेहद सावधानी से काम करना होता है।
08 बिना किसी सुरक्षा उपायों के अगर स्पेस में आप जाते हैं या रहते हैं तो महज 2 मिनट में ही आप की मौत हो सकती है। सांस लेने की दिक्कत तो बाद में है कम दबाव होने की वजह से आप का शरीर फट जाता है और आपकी मौत हो जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here