हृदय रोग – क्या, कितना खाएं

0
heart disease precaution tips

हृदय रोग क्या है?

दिल पंपिंग से शरीर की सारी कोशिकाओं को खून के जरिए ऑक्सीजन व पोषक तत्व पहुंचाता है। हृदय रोग कई प्रकार के होते हैं, लेकिन अंतत: इन सभी से पंपिंग की क्रिया प्रभावित होती है। संक्रमण, डायबिटीज अथवा किडनी में गड़बड़ी के कारण वॉल्व खराब हो सकता है या दिल की मांस-पेशी कमजोर हो सकती है। ्दिल को खून सप्लाई करने वाली धमनियों में कोलेस्टेरॉल, केल्सियम या फालतू कोशिकाएं जमा हो सकती हैं। दिल को धडक़ने के लिए बिजली के संकेत देने वाले साइनस नोड में संक्रमण से धडक़न धीमी या तेज हो सकती है।
लक्षण:
-छाती में दर्द या छाती, गर्दन व शरीर के ऊपरी हिस्से में दबाव, बेचैनी या उनका सुन्न हो जाना।
-धडक़न तेज या धीमी होना या अनियमित होना।
-सिर चकराना, गश खाना।
-थकान, आलस्य या दिन में नींद आना, सांस तेज चलना।
कारण:
हाई ब्लड प्रेशर, हाई ब्लड कोलेस्टेरॉल, डायबिटीज, मोटापा, अधिक वजन, धूम्रपान, शारीरिक निष्क्रियता और परिवार में हृदय रोगों का इतिहास।
कैसे बचें:-
-कोलेस्टेरॉल बढ़ाने वाले खाद्य जैसे बटर, चीज, अधिक नमक से परहेज करें।
-तनाव से बचें, पर्याप्त आराम करें।
-मोटापा और अधिक वजन से बचें। धूम्रपान बंद करें।

क्या, कितना खाएं :
कार्बोहाइडे्रट्स : 60 से 65 फीसदी (आलू, ज्वार-बाजरा या गेहूं की रोटी या पास्ता आदि 55 प्रतिशत और 10 प्रतिशत सामान्य कार्बोहाइड्रेट जैसे चावल) साथ में चार चम्मच साबुत अनाज लें।
फैट : 20 से 30 प्रतिशत और प्रोटीन 15 प्रतिशत।
फल : एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर फलों का सेवन जरूर करें।
प्रोटीन : नॉनवेज हो तो सप्ताह में दो बार मछली खाएं। शाकाहारी हैं तो हरी सब्जियां खाएं।
डेयरी उत्पाद : दही, लो-फैट दूध और फैट-फ्री चीज जरूर लें।
पानी : दिन में कम से कम आठ गिलास पानी पीएं।
मूंगफली : मूंगफली में विटामिन बी त्वचा के इलास्टिन और कॉलेजन को दुरुस्त करता है। लेकिन मंूगफली की थोड़ी मात्रा ही खाएं।
इसके अलावा….
-पॉजिटिव सोच रखें
-म्यूजिक सुनें
-रोजाना पैदल चलने की आदत डालें
-खुलकर हंसें
-अपनी हॉबीज के लिए समय निकालें।
ये सब चीजें आपके हृदय स्वस्थ रखने के लिए बेहद जरूरी हैं, इनका ध्यान रखें तो आप पाएंगे हैल्दी हार्ट।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here