बॉलीवुड और रक्षाबंधन

0

राखी की प्रासंगकिता को फिल्मों में भी निर्देशकों ने बखूबी दर्शाया है। बहन और भाई का मार्मिक प्रसंग फि ़ल्म मजबूर में भी दिखाया गया है, जिसमें बहन फ रीदा जलाल पैरों से लाचार है और जि़ंदगी से बहुत तंग आ चुकी है। भाई अमिताभ बच्चन उसके लिए गाते हैं -देख सकता हूँ मैं कुछ भी होते हुए, नहीं मैं नहीं देख सकता तुझे रोते हुए। वही अमिताभ बच्चन आगे चलकर एंग्री यंग मैन बन गए।

इसी तरह राजेश खन्ना की मुख्य भूमिका वाली फिल्म सच्चा-झूठा  भी बहन और भाई के एक प्रसंग पर आधारित थी। राजेश खन्ना पर इस फिल्म में एक ऐसा गीत था, जो इतना लोकप्रिय हुआ कि आज तक रेडियो पर जब भी बजता है, लोग इसे बहुत उत्साह के साथ गुनगुनाते हैं। ये गीत ह-मेरी प्यारी बहनिया बनेगी दुल्हनिया,सजके आएंगे दूल्हे राजा,भैया राजा बजाएगा बाजा..। इस गीत की सबसे बड़ी ख़ासियत ये है कि आज भी शादियों में इसे खोजकर जुटाया और बजाया जाता है।

देव आनंद ने बनाई थी फिल्म -हरे रामा हरे कृष्णा, जिसमें ज़ीनत अमान देव साहब की बहन होती हैं, वो बहन जो बाद में हिप्पी बन जाती है। इस फिल्म  में आनंद बख्शी ने लिखा था-फूलों का तारों का,सबका कहना ह, एक हज़ारों में मेरी बहना है। ये गीत एक बार भाई देव आनंद के लिए किशोर कुमार गाते हैं और बाद में बहन ज़ीनत अमान के लिए गाती हैं लता मंगेशकर। सन 1971 में आई इस फिल्म के गाने में बहना का कितना सुंदर चित्रण है -जीवन के दुखों से डरते नहीं हैं, ऐसे बच के सच से गुजऱते नहीं हैं,

सुख की है चाह तो दुख भी सहना है, एक हज़ारों में मेरी बहना है..। कितना बड़ा दर्शन है इस गीत में। बहुत ख़ास है यह गाना
और कहानी में इसे बुना भी बहुत कुशलता के साथ गया है। एक हज़ारों में मेरी बहना है…ये एक लोकप्रिय कहावत का रूप ले चुका है।

क्या हों गिफ्ट?
ट्रेंडी भाई के लिए- घडिय़ां, डिओडेरंट,परफ्यूम, मोबाइल फोन,सन ग्लासेज,
सोबर भाई के लिए-शर्ट, डिजाइनर पेन,  या भाई के व्यक्तित्व से मेल खाते गिफ्ट।
(बच्चे )भाई के लिए-गेम्स, सीडी, प्ले स्टेशन, आदि
विवाहित भाई के लिए-डेकोरेटिव आइटम, या घरेलू उपयोग का सामान, या फिर मिठाई या ड्राई फ्रूट का डिब्बा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here