जर्मन टैक्नोलॉजी-विश्व की श्रेष्ठतम टैक्नोलॉजीस-

0

जर्मन टैक्नोलॉजी को विश्व की श्रेष्ठतम टैक्नोलॉजीस की श्रेणी में रखा जाता है, वैज्ञानिक तरीके से विभिन्न मापदण्डों पर खरा उतरने के बाद अत्याधुनिक तकनीक को वैश्विक बाजार में उतारा जाता है। और नि:संदेह उसे इसी सटीक टैक्नोलॉजिकल एडवांस्मेंट के कारण सराहा जाता है। जर्मन तकनीक अनेक क्षेत्रों में पायनियर रही है, और कार इंजन भी उनमें से एक है। जर्मनी के विख्यात इंजीनियर कार्ल बेंज को मॉडर्न ऑटोमोबाइल के इन्वेंटर के रूप में जाना जाता है, १८८५ में फोर स्ट्रॉक साइकिल गेसोलाइन इंजिन के द्वारा चलाई जाने वाली ऑटोमोबाइल निर्मित की गई। प्रथम इंटरनल कम्बश्चन फ्लैट इंजन भी बेंज द्वारा निर्मित किया गया। ऑडी, बीएमडब्ल्यू, मर्सिडिज बेंज, ओपल, पॉर्श, स्मार्ट, फॉक्सवैगन आदि कार निर्माता जर्मनी के हैं, भविष्य में कारों को अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी से लैस करने की तैयारी है और इसमें-ऑटोमोबाइल प्रॉपल्शन टेक्नोलॉजी को विकसित किया जा रहा है, प्लग इन हायब्रिड्स, बैटरी इलैक्ट्रिक व्हीकल्स, बायो फ्यूल्स, व अन्य आल्टरनेटिव फ्यूल्स शामिल हैं। भविष्य के आल्टरनेटिव पावर के प्रकार हैं-फ्यूल सैल्स, होमॉजेनियस चार्ज कॉम्प्रेशन इग्रिशन, स्टर्लिंग इंजिन, व लिक्विड नाइट्रोजन का उपयोग करने के विकल्प हैं। इंजिन की क्षमता को बढ़ाने के लिए अनेक प्रयोग किए जा रहे हैं व विख्यात कम्पनियों द्वारा भी नई रिसर्च्स व डेवलपमेंट के द्वारा इंजिन को सशक्त करने का काम निरंतर जारी है। ऑडी ने नया डायरेक्ट टॉर्क फ्लो-डीटीएच टेक्नोलॉजी जारी किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here