कमर दर्द – कारण और घरेलू उपचार

0
kamar dard waist pain
kamar dard waist pain

कई बार सुबह उठते ही कमर में तेज दर्द महसूस होता है या फिर झुकने अौर भारी चीज उठाने या लगातार कई घंटों तक काम करने के बाद कमर स्टिफ हो जाती है। पेन किलर्स और पेन रिलीवर्स से दर्द कम हो जाता है, लेकिन मसल्स स्टिफ रहती हैं। कमर की तीन मूवमेंट्स होती हैं -अपवर्ड स्ट्रेचिंग, ट्विस्टिंग और फॉर्वर्ड और बैकवर्ड मूवमेंट। कमर में दर्द के कारण ये मूवमेंट्स नहीं हो पाते। कुछ योगासनों की मदद से कमर दर्द और स्टिफनेस से छुटकारा मिल सकता है।

अर्द्ध शलभासन—-
सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं।
दोनों हाथों को आगे की ओर उठाते हुए खींचें और हल्का सा चेहरे को ऊपर की तरफ उठाएं।
सांस भरते हुए पीछे से एक पैर को जमीन से हल्का सा ऊपर उठाएं।
कुछ देर तक सांस रोक कर रखें। इस क्रिया को तीन बार दोहराएं।

सावधानी :
भोजन के तुरंत बाद इन क्रियाओं को करें। जिन्हें हर्निया की समस्या हो या तेज कमर दर्द हो, वे इन आसनों को करें। ये अासन किसी ट्रेनर या एक्सपर्ट के निरीक्षण में ही करें। जैसा कि फिटनेस ट्रेनर श्याम सिंह कविया ने बताया।

अर्धपवन मुक्तासन—-
जमीन पर लेट जाएं। दोनों पैरों को सीधा कर लें।
फिर सांस लेते हुए एक पैर को घुटने से मोड़ते हुए पेट की तरफ लाएं।
दोनों हाथों से पैर मोड़ते हुए पेट से लगाएं, सांस अंदर की ओर खींचते हुए। कुछ देर के लिए सांस को रोक कर रखें। फिर सांस छोड़ते हुए धीरे-धीरे पैर को जमीन की तरफ ले जाएं।
इस क्रिया को तीन बार दोहराएं।

पवन मुक्तासन—-
सबसे पहले जमीन पर लेट जाएं। बिल्कुल सीधे लेटते हुए अपने दोनों पैरों को घुटने से मोड़ते हुए पेट पर लगाएं।
सांस लेते हुए दोनों हाथों से दोनों घुटनों को पकड़ कर रखें और हाथों से पैरों पर जोर लगाते हुए अंदर की तरफ दबाएं।
पेट को अंदर की तरफ स्ट्रेच करें।
दस से बीस सेकेंड तक सांस को रोक कर रखें, फिर धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए पैरों को वापस जमीन की तरफ ले जाएं।
ये क्रिया तीन बार दोहराएं।

कमर दर्द में फायदेमंद हैं ये आसन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here