आरती झूलेलाल जी की

0

ओ३म जय दूलह देवा, स्वामी जय दूलह देवा।

पूजा कनि था प्रेमी, सिदिकु रखी शेवा।।

तुंहिंजे दर ते केई सजण अचनि सुवालि,

साई सजण अचनि सुवालि

दानु वठनि सभु दिल सां, कोन वञनि खालि।

ओ३म् जय दूलह देवा।।

अन्धिड़नि खेदीं अखिडिंयूं, दुखियुनि खे दारूं,

साई दुखियुनि खे दारू।

मन जंू पाए मुरादूं, सेवक कनि थारूं।

ओ३म् जय दूलह देवा।।

फल फूल मेवा सब्जि़यूं पोखुनि मंझि पचिन,

साई पोखुनि मंझि पचनि।

तुंहिंजे महर मया सां, अन्न अपार थियनि।

ओ३म् जय दूलह देवा।।

ज्योति जगे थी जग में, लाल तुंहिंजी लाली,

साई लाल तुंहिंजी लाली।

अमरलाल अचु मंूवटि, हे विश्व संदा वाली।

ओ३म् जय दूलह देवा।।

जग जा जीव सभेई, पाणी अ बिन प्यासा,

साईं पाणी अ बिन प्यासा।

जेठानन्द आनन्द करि, पूरन करि आशा।

ओ३म् जय दूलह देवा।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here