आरटीजीएस – नैशनल इलेक्ट्रॉनिक फ ंड्स ट्रांसफ र

0

क्या है आरटीजीएस:
रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट बैंक के जरिये पैसे ट्रांसफ र करने का सबसे तेज तरीका है। सभी बैंकों की हर ब्रांच में नहीं होती यह सुविधा। कुछ ब्रांचों में ही होती है।
कम.से.कम रकम:
कम.से.कम 2 लाख रुपये की रकम इस तरीके से ट्रांसफ र की जा सकती है। अधिकतम रकम की कोई सीमा नहीं है। 2 लाख से कम रकम ट्रांसफ र करने के लिए एनईएफ टी तरीका अपनाया जा सकता है।

समय :
सोमवार से शुक्रवार सुबह 9 बजे से दोपहर बाद 3 बजे तक और शनिवार को सुबह 9 बजे से दोपहर बाद 2 बजे तक।

कितनी देर:
पैसे भेजे जाने के दो घंटे के अंदर उस शख्स के अकाउंट में पैसा आ जाता है  जिसे पैसे भेजे गए हैं।

खर्च:
2 लाख से 5 लाख रुपये तक:  प्रति ट्रांजैक्शन 30 रुपये
5 लाख रुपये से ज्यादा: प्रति ट्रांजैक्शन 55 रुपये

कैसे जाता है पैसा:
. जैसे ही रकम भेजने वाला आरटीजीएस इंस्ट्रक्शन स्लिप भरता है  भेजने वाला बैंक अपने सेंट्रल प्रॉसेसिंग सिस्टम में सभी डिटेल फ ीड कर देता है।
. सेंट्रल प्रॉसेसिंग सिस्टम के जरिये सभी जरूरी सूचनाएं आरबीआई को भेज दी जाती हैं।
. आरबीआई ट्रांजैक्शन पूरा करता है। इसके लिए भेजने वाले बैंक के अकाउंट से पैसा कट जाता है और जिस बैंक को भेजा गया हैए उसके अकाउंट में क्रेडिट हो जाता है। यह सब आरबीआई के यहां रेकॉर्ड हो जाता है।
. इसके बाद एक यूनीक ट्रांजैक्शन नंबर ;यूटीएन आता है जिसे आरबीआई पैसा भेजने वाले बैंक को भेज देता है। यह इस बात का सबूत है कि फं ड ट्रांसफ र हो गया है।
. अब भेजने वाला बैंक इसकी सूचना रिसीव करने वाले बैंक को भेज देता है। रिसीव करने वाला बैंक यह सूचना मिलते ही अपने उस अकाउंट होल्डर के अकाउंट में पैसा ट्रांसफर कर देता हैए जिसे रकम भेजी गई है।
***
नैशनल इलेक्ट्रॉनिक फ ंड्स ट्रांसफ र
आरबीआई ने बैंक के एक खाते से किसी दूसरे खाते में पैसे के इलेक्ट्रॉनिक ट्रांसफ र के लिए दो विकल्प ऑफर किए हैं। ये हैं.  नैशनल इलेक्ट्रॉनिक फ ंड्स ट्रांसफ र  और   रियल.टाइम ग्रॉस सेटलमेंट ये ट्रांसफ र इंटरनेट बैंकिंग फे सिलिटी के जरिए किए जा सकते हैं।

ऐक्टिवेशन
नैशनल इलेक्ट्रॉनिक फ ंड्स ट्रांसफ र  और   रियल.टाइम ग्रॉस सेटलमेंट ट्रांजैक्शन के लिए इंटरनेट बैंकिंग इस्तेमाल करने वाले लोगों के पास थर्ड.पार्टी ट्रांजैक्शन ऐक्टिवेट कराना जरूरी है।

बेनिफि शरी
जिस आदमी को पैसा भेजा जाना हैए उसे बेनिफि शरी के तौर पर ऐड करना जरूरी है। साथ हीए उस शख्स का बैंक अकाउंट डीटेल भी मालूम होना चाहिए। इसके तहत बेनिफि शरी अकाउंट होल्डर का नाम, अकाउंट नंबर, बैंक और ब्रांच का नाम और जिस ब्रांच में पैसे भेजे जाने हैं  उसका आईएफएससी कोड भी जानना जरूरी है।

प्रोसेसिंग
बैंक बेनिफि शरी की डीटेल जांचने में बैंक को 12-24 घंटे लगते हैं। यह जांच पूरी हो जाने के बाद नया बेनिफि शरी ऐक्टिवेट हो जाता है और फं ड को संबंधित अकाउंट में ट्रांसफ र किया जा सकता है।

ट्रांसफ र:
सबसे पहले ट्रांसफर ऑप्शन नैशनल इलेक्ट्रॉनिक फ ंड्स ट्रांसफ र  और   रियल.टाइम ग्रॉस सेटलमेंट का चुनाव करें। इसके बाद बेनिफि शरी का नाम, राशि और ट्रांसफ र का ब्योरा पेश करें। डीटेल्स और सिक्युरिटी ट्रांजैक्शन पासवर्ड देने के बाद ट्रांसफ र की प्रोसेसिंग हो जाती है। नैशनल इलेक्ट्रॉनिक फ ंड्स ट्रांसफ र में ट्रांसफ र बैच में होता है यानी इसमें थोड़ा वक्त लगता है जबकि  रियल.टाइम ग्रॉस सेटलमेंट रियल टाइम बेसिस यानी तुरंत हो जाता है।

कुछ अहम प्वाइंट्स
रियल.टाइम ग्रॉस सेटलमेंट के जरिए कम से कम 2 लाख रुपए की रकम ट्रांसफ र की जा सकती है। नैशनल इलेक्ट्रॉनिक फ ंड्स ट्रांसफ र के लिए इस तरह की कोई सीमा नहीं है।

नैशनल इलेक्ट्रॉनिक फ ंड्स ट्रांसफ र के जरिए फं ड का ट्रांसफ र आरबीआई की तरफ  से तय समय सीमा के भीतर होता है। रियल.टाइम ग्रॉस सेटलमेंट ट्रांजैक्शन तत्काल सेटल हो जाते हैं।

नैशनल इलेक्ट्रॉनिक फ ंड्स ट्रांसफ र  और   रियल.टाइम ग्रॉस सेटलमेंट के जरिए फं ड का ट्रांसफ र बैंक ब्रांच के जरिए भी किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here